इंतज़ार पूरा, अभी बहुत कुछ अधूरा 

1,274 total views, 1 views today दो टूक अजित सिंह राठी की कलम से  देहरादून से ढाई सौ किलोमीटर से भी ज्यादा दूर अपने हक़ में कोई फैसला होने के इंतज़ार में गैरसैण की आँखे भी पथरा सी गयी थी, लेकिन अब शायद गैरसैंण “ग़ैर” ना रहे। शायद अब पलायन रुके और भूतिया गांव आबाद हो। इस राज्य ने बीस … Continue reading इंतज़ार पूरा, अभी बहुत कुछ अधूरा